OMG: सोने के भाव में बिकता है यह आम! सुरक्षा के लिए तैनात किये गए हैं 6 कुत्ते और कई गार्ड..

सोने के भाव में बिकता है यह आम! नाम है टाइयो नो टमैगो

आपने देश भर के बागों में पैदा होने वाले तमाम वरैयाटि के आम खाये होंगे। लेकिन इन दिनों एक ऐसा आम चर्चा में है जिसको खरीदने से पहले आपको सौ बार सोचना पड़ सकता है. जी हां इस आम (Worlds costliest Mango) की खासियत आप इस बात से ह समझ सकते हैं कि, इसकी सुरक्षा के लिए कुत्तों को तैनात किया गया है. जैसे की इस आम की खासियत है वैसा ही इसका नाम भी है जिसको सुनकर आप भौंचके रह जायेंगे।

यह आम भी अन्य किस्म के आमों की तरह पेड़ पर ही लगता है. लेकिन यह भारतीय नहीं बल्कि जापानी है. जापानी वैरायटी का यह आम अपने देश में 2.50 लाख रुपए प्रति किलो तक बिक चुका है। फार्म हाउस संचालक काे एक व्यापारी ने 21 हजार रुपए का भाव का ऑफर किया था।

इस आम को जबलपुर से चरगवां रोड पर संकल्प सिंह परिहार अपने 12 एकड़ के फार्म हाउस में उगाता है. दुनिया के सबसे महंगे आम (Japani Mango story) को उगाने का दावा यह परिवार कर रहा है। उन्होंने फार्म हाउस में 14 अलग-अलग किस्म के आम लगाए हैं, जिसमें जापानी प्रजाति के ‘टाइयो नो टमैगो’ के 7 पेड़ हैं। अब इनकी सुरक्षा के लिए चार गार्ड, 6 डॉग लगाए हैं। संकल्प इस फल से और पौधे बनाने की बात कहते हैं।

दुनिया का सबसे महंगा आम

भारत के सबसे महंगे आम की बात करें तो अल्फांसो या हापुस आम सबसे महंगा है. इसे इतना स्वादिष्ट मानते हैं कि स्वर्गबूटी भी कहते हैं. लगभग 300 ग्राम तक वजनी ये आम काफी मीठा और शानदार सुगंध लिए होता है. इसे जीआई टैग भी मिल चुका है और इंटरनेशनल मार्केट में इसकी भारी मांग है. यूरोप और जापान में हमेशा से इसकी डिमांड रही तो अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में अलफांसो की पूछ बढ़ने लगी है.

तो वहीं दुनिया के सबसे महंगे आम का दर्जा जापानी आम की एक किस्म को मिला हुआ है. ताईयो नो तामागो (taiyo no tamago) नाम का ये आम वहां के मियाजारी प्रांत में पैदा होता है. इस आम में मिठास के साथ अन्नास और नारियल का हल्का सा स्वाद भी आता है.

इसे एक खास तरीके से तैयार करते हैं. इसके तहत आम के पेड़ पर फल आते ही एक-एक फल को जालीदार कपड़े से बांध दिया जाता है. ये इस तरह होता है कि फल पर पूरी तरह से धूप पड़े, जबकि जाली वाले हिस्से बचे रहें. इससे आम की रंगत ही अलग होती है.

Related Posts

Leave a Comment