सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला- पिता की प्रॉपर्टी में बेटी का भी होगा बराबर का हक़

सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा फैसला लिया है जी हां तो बता रहे हैं कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने एक बड़ा फैसला लेते हुए कहा है कि बेटियों का भी अपने पिता की संपत्ति यानी कि पैतृक संपत्ति पर अधिकार होगा। भले ही हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम 2005 के लागू होने से ही कोपर्शनर की मृत्यु हो गई हो. हिंदू महिलाओं को अपने पिता की प्रॉपर्टी में भाई के बराबर हिस्सा मिलेगा।

दरअसल यह कानून 2005 में कि बेटा और बेटी दोनों को अपने पिता की संपत्ति में समान अधिकार होगा। लेकिन यह बात साफ नहीं थी कि अगर पिता का देहांत 2005 से पहले हो गया है। तो उस पर यह लागू होगा या नहीं। लेकिन आज जस्टिस अरुण मिश्रा की अगुवाई वाली बेंच ने यह फैसला कर दिया है कि यह कानून हर परिस्थिति में लागू होगा। अगर पिता का देहांत कानून बनने से पहले यानी 2005 से पहले भी हो गया है तो भी बेटी (Daughters have also Right on property) को बेटे के बराबर का हक दिया जाएगा।

आपको बता दें कि 2005 में हिंदू उत्तराधिकार कानून 1956 में संशोधन किया गया था. इसके तहत पैतृक संपत्ति में बेटियों को बराबर का हिस्सा देने की बात कही गई है. क्लास 1 कानूनी वारिस (Legal heir) होने के नाते संपत्ति पर बेटी का बेटे जितना हक है. शादी से इसका कोई लेना-देना नहीं है. अपने हिस्से की प्रॉपर्टी पर दावा किया जा सकता है.

जन्म से बेटी का पैतृक संपत्ति पर अधिकार

हिंदू कानून के तहत प्रॉपर्टी दो तरह की हो सकती है. एक पिता द्वारा खरीदी हुई. दूसरी पैतृक संपत्ति होती है. जो पिछली चार पीढ़ियों से पुरुषों को मिलती आई है. कानून के मुताबिक, बेटी हो या बेटा ऐसी प्रॉपर्टी पर दोनों का जन्म से बराबर का अधिकार होता है. कानून कहता है कि पिता इस तरह की प्रॉपर्टी को अपने मन से किसी को नहीं दे सकता है. यानी इस मामले में वह किसी एक के नाम वसी;यत नहीं कर है. इसका मतलब यह है क‍ि वह बेटी को उसका हिस्सा देने से वं’चित नहीं कर सकता है. जन्म से बेटी का पैतृक संपत्ति पर अधिकार होता है.

अगर पिता ने खुद प्रॉपर्टी खरीदी है यानी पिता ने प्लॉट या घर अपने पैसे से खरीदा है. तो बेटी का प’क्ष कम’जोर होता है. इस मामले में पिता के पास प्रॉपर्टी को अपनी इच्छा से किसी को गिफ्ट करने का अधिकार होता है. बेटी इसमें आ’पत्ति नहीं कर सकती है.

Related Posts

Leave a Comment