राजनाथ सिंह का बड़ा बयान- किसानो को खालि’स्तानी कहना गलत, वह हमारे अन्नदाता और देश की रीढ़ हैं..

राजनाथ सिंह ने किसानों को बताया देश की जान

कृषि कानून के विरोध में किसानों का प्रदर्शन जारी ही. लाखों किसान दिल्ली से सटे बॉर्डर्स पर डटे हुए हैं. तो वहीं आज एक बार फिर सरकार और किसान नेताओं के बीच बैठक हुई है. तो दूसरी तरफ आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath singh Praise Farmers) ने किसानों के प्रति बड़ा बयान दिया है और उनको न’क्स’ली और खालि’स्तानी कहे जाने पर सख्त आपत्ति जताई है.

राजनाथ सिंह कहते हैं कि, मुझे नहीं पता किसने ऐसी बातें कहीं हैं, लेकिन किसानों के लिए ऐसे शब्द का इस्तेमाल करना बहुत गलत है. वह अन्नदाता हैं और हमारे देश की रीढ हैं.

राजनाथ सिंह ने किसानों को बताया देश की जान

जी हां एक तरफ जहां मोदी सरकार के कई मंत्री लगातार अलाहग-अलग टिप्पणी कर रहे हैं. इन सब के बीच आज राजनाथ सिंह (Rajnath singh praise farmers) ने किसानों के प्रति हमदर्दी जताते हुए बड़ा ब्यान दिया. उन्होंने कहा कि सरकार प्रदर्शन कर रहे किसानों की पी’ड़ा को समझ रही है. सिखों की ईमानदारी पर कोई सवाल नहीं उठता. प्रदर्शनकारी किसानों को माओवादी और खालि’स्तानी बताए जाने पर उन्होंने कहा, ‘इस तरह के आरोप किसी के भी द्वारा नहीं लगाए जाने चाहिए. हम किसानों का दिल से सम्मान करते हैं. उनके सम्मान में हम सिर झुकाते हैं. वे हमारे अन्नदाता हैं. आर्थिक मंदी के समय किसानों ने इससे उबारने की जिम्मेदारी ली थी. वे अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं. उन्होंने कई बार देश को सं’कट से निकाला है.’

दरअसल राजनाथ सिंह ने यह बातें न्यूज एजेंसी ANI को दिए गए एक इंटरव्यू कहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘हम किसानों का सम्मान करते हैं. सरकार किसानों के साथ कृषि कानून के हर मसले पर चर्चा करने को तैयार है, नए कानून किसानों की भलाई के लिए हैं. अगर किसी को कोई दिक्कत है तो सरकार चर्चा को तैयार है.’

वीडियो देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें: https://twitter.com/ANI/status/1344124731067265024

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा- नहीं बनी बात तो जाम कर देंगे एस्प्रेसवे

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि अगर सरकार से बात नहीं बनती है तो ईस्टर्न पेरीफेरल और वेस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे को बंद कर दिल्ली में आना और जाना पूरी तरह से बंद किया जाएगा. अब इस आंदोलन का प्रमोशन होगा. जिस तरह सिपाही भर्ती होता है फिर हेड कांस्टेबल बनता है, उसी तरह इस आंदोलन का भी अब प्रमोशन होगा. यानी, आंदोलन का दायरा अब बढ़ता रहेगा.

किसानो के लिए संसस्थायें और गुरुद्वारा कमेटी की तरह से पूरी देखरेख की जा रही है. इन सब के बीच अब केजरीवाल सरकार ने इन लोगों को वाईफाई भी उपलब्ध कराने का एलान कर दिया है जिससे वह अपने घर वालों से वीडियो कालिंग कर बात कर सकें।

किसानों के लिए केजरीवाल सरकार का बड़ा एलान

केजरीवाल सरकार खुद दो बार सिंघु बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों से मुलाक़ात कर चुके हैं. तो वहीं वह लगातार किसानों को हर सुविधा देने की बात भी कर रहे हैं. इसी बीच अब किसानों के लिए फ्री वाईफाई की घोषणा कर दी है जिसके बाद सियासी हल’चल भी तेज होती नजर आ रही है. पार्टी के नेता राघव चड्ढा ने घोषणा की कि पार्टी सिंघू बॉर्डर पर Wi-Fi हॉट स्पॉट्स लगवाएगी.

उन्होंने कहा, ‘किसानों की शिकायत थी कि इंटरनेट की खराब कनेक्टिविटी की वजह से परिवार से वीडियो कॉलिंग नहीं कर पा रहे थे. ये फैसला सेवादार अरविंद केजरीवाल ने लिया है.’ उन्होंने कहा, ‘इंसान को सम्मानजनक जीवन जीने के लिए रोटी, कपड़ा और मकान चाहिए होते हैं लेकिन अब इसमें इंटरनेट भी जुड़ चुका है. जैसे-जैसे डिमांड आएगी, वैसे-वैसे वहां हॉट-स्पॉट्स लगवाएंगे. एक हॉट स्पॉट के 100 मीटर के दायरे में सिग्नल रहेंगे.’

Related Posts

Leave a Comment