अब चिदंबरम ने पार्टी के खिलाफ दिया बयान! बिहार चुनाव में हार और अध्यक्ष पद को लेकर कह दी बड़ी बात

P Chidambaram speaks against party

बिहार चुनाव में मिली हार के बाद से कांग्रेस में अंदर ही अंदर अब दो फा’ड़ शुरू हो गई है. हाल ही में कांग्रेस के बड़े नेता कपिल सिब्बल ने इसको लेकर कांग्रेस को आत्मनिरीक्षण करने की नसीहत दी थी. तो वहीं अब कांग्रेस के एक और बड़े नेता (P Chidambaram Speaks against Party) ने पार्टी को लेकर ऐसा कुछ कह दिया है जिससे खलब’ली मच गई है.

अभी सिब्बल के बयान से उठा सियासी तूफ़ान थमा नहीं था कि, अब चिदंबरम ने भी ब’म फो’ड़ दिया है.

बिहार में अधिक सीटों पर चुनाव ल’ड़ी पार्टी!

जाहिर है कपिल सिब्बल की खुली आलोचना के बीच चिदंबरम (P Chidambaram on congress Loss in Bihar) का बयान कांग्रेस पार्टी में हच’लच पैदा कर सकता है। उन्‍होंने कहा कि पार्टी के चुनावी बिगुल बजाने और नेतृत्व के बहाव पर कांग्रेस के भीतर कई से अधिक पहरेदार रहे हैं। दैनिक भास्कर को दिए एक साक्षात्कार में उन्‍होंने बताया कि पार्टी को बिहार में जितनी सीटें मिलनी चाहिए थीं, उसने उससे कहीं अधिक सीटों पर चुनाव ल’ड़ा।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, “मैं गुजरात, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक में हुए उप-चुनाव परिणामों से अधिक चिं’तित हूं। इन परिणामों से पता चलता है कि पार्टी की न तो कोई संगठनात्मक उपस्थिति है और अगर यह तो वह काफी कमजोर है।” उन्होंने कहा, “बिहार में राजद-कांग्रेस के पास जीत का मौका था। हम जीत के इतने करीब होने के बावजूद क्यों हार गए, इसकी व्यापक समीक्षा होनी चाहिए। याद रखें बहुत समय पहले कांग्रेस ने राजस्थान, एमपी, छत्तीसगढ़ और झारखंड को जीता था।”

बिहार चुनाव में मिली हार पर क्या बोले चिदंबरम

बिहार में कांग्रेस की करा’री हार को लेकर अब तक कई नेताओं के बयान सामने आ चुके हैं. अब चिदंबरम ने इसपर कहा- बिहार के नतीजों ने साबित कर दिया है कि अगर बेस स्तर पर आप संगठनात्मक रूप से मजबूत हैं तो सीपीआई-एमएल और एआईएमआईएम जैसे छोटे दल भी प्रद’र्शन कर सकते हैं।” विप’क्षी गठबंधन को भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन के रूप में भी वोट मिल सकते हैं, लेकिन उन्हें हराने के लिए हमें जमीनी स्तर पर अपने संगठन को मजबूत करना होगा।

दिग्गज नेता ने स्वीकार किया, “मुझे लगता है कि कांग्रेस ने अपनी संगठनात्मक ताकत से अधिक सीटों पर चुनाव ल’ड़ा। कांग्रेस को 25 सीटें दी गईं, जहां भाजपा या उसके सहयोगी 20 साल से जीत रहे थे। कांग्रेस को इन सीटों से चुनाव ल’ड़ने से इनकार कर देना चाहिए था। पार्टी को केवल 45 उम्मीदवारों को मैदान में उतारना चाहिए था।” उन्होंने केरल, तमिलनाडु, पुडुचेरी, बंगाल और असम में होने वाले चुनावों का उल्लेख किया। हम देखते हैं कि इन राज्यों में परिणाम आएगा।

गैर गांधी के कांग्रेस नेतृत्व करने पर भी बोले चिदंबरम

यही नहीं चिदंबरम ने कांग्रेस के पूर्व प्रमुख राहुल गांधी द्वारा गैर-गांधी को पार्टी का नेतृत्व करने के सवाल पर सावधानीपूर्वक जवाब दिया। उन्होंने कहा, “मैं यह नहीं कह सकता कि एआईसीसी (ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी) की बैठक में किसे चुना जाएगा, कोई भी चुनाव लड़ सकता है।”

कपिल सिब्बल द्वारा पार्टी के बिहार प्रदर्शन की आलोचना करने के बाद से कई लोगों ने कांग्रेस के खिलाफ आवाज उठाई और कहा कि आत्मनिरीक्षण का समय समाप्त हो गया है।

Related Posts

Leave a Comment