देश की GDP पाताल में और अंबानी की कमाई आसमान में! लॉकडाउन के बाद हर घंटे कमाए 90 करोड़-Report

Mukesh ambani Become 4th riche Person of World

एक तरफ जहां देश की जीडीपी इतने नीचे आ गई है कि, उसको उठने में काफी समय लगेगा। तो वहीं देश के कुछ बड़े उद्योगपतियों की चांदी हो गई है. जी हां लॉक डाउन में कई बड़े व्यापार ब’र्बा’द हो गए. तो वहीं कुछ की लॉटरी लग गई, इनमे से ही एक हैं देश के सबसे अमीर इंसान मुकेश अम्बानी (Mukesh ambani Income Go Higher)। जी हां रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी ने लॉकडाउन के बाद से अब तक हर घंटे 90 करोड़ रुपये कमाये हैं.

IIFL वेल्थ हारुन इंडिया रिच लिस्ट 2020 में यह दावा किया गया है. इस रिपोर्ट में अंबानी की बढ़ती संपत्ति (Mukesh Ambani Income) का जिक्र किया गया है. साथ ही इसमें कुछ और नाम भी शामिल हैं जिनकी लॉक डाउन के बाद से कमाई कई गुना बढ़ गई है. तो आइये आपको बताते हैं पूरी खबर.

दुनिया के चौथे सबसे अमीर व्यक्ति बने मुकेश अम्बानी

गौरतलब है कि, मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani Income) देश ही नहीं बल्कि अब दुनिया भर में सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में शुमार हो चुके हैं. लगातार बढ़ता उनका कारोबार उन्हें दुनिया के सबसे धनी व्यक्तियों की लिस्ट में टॉप 5 में ला चुका है.

इसी बीच हाल ही में एक रिपोर्ट सामने आई जिसमे बताया गया कि, लॉक डाउन के बाद अम्बानी की संपत्ति में भारी उछाल देखने को मिला है. रिपोर्ट के अनुसार पिछले 12 महीने में मुकेश अंबानी का वेल्थ 73 फीसदी बढ़कर 2.77 लाख करोड़ रुपये से 6.58 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है. वह न केवल एशिया के सबसे धनी व्यक्ति बन गये बल्कि वह दुनिया के चौथे अमीर भी हो गये.

अडानी भी प्रमुख स्थान पर

साल 2020 की इस सूची में भारत के उन अमीरों को शामिल किया गया है, जिनकी 31 अगस्त 2020 को संपदा 1,000 करोड़ रुपये या उससे ज्यादा थी. इस सूची में लंदन में रहने वाले हिंदुजा बंधु दूसरे स्थान पर हैं, जिनकी संयुक्त संपदा 1,43,700 करोड़ रुपये है. तीसरे स्थान पर 1,41,700 करोड़ रुपये की संपदा के साथ एचसीएल के शिव नाडर और चौथे स्थान पर 1,40,200 करोड़ रुपये के साथ गौतम अडानी एवं उनका परिवार है.

तीन गुना बढ़े अमीर

इंडिया इन्फोलाइन फाइनेंस लिमिटेड वेल्थ हारुन इंडिया रिच लिस्ट 2020 के अनुसार पिछले पांच साल में 1,000 करोड़ रुपये से ज्यादा नेटवर्थ रखने वाले भारतीयों की संख्या तीन गुना बढ़कर 828 तक पहुंच गई है. हालांकि यह संख्या साल 2019 में 953 और 2018 में 831 थी. अगर अमेरिकी डॉलर के मद में अरबपतियों को देखें तो इनकी संख्या पिछले साल के 138 के मुकाबले इस साल 179 तक पहुंच गई.

हारुन इंडिया के एमडी और चीफ रिसर्चर अनस रहमान जुनैद ने बताया, ‘इस सूची में संपदा की करीब 28 फीसदी की बढ़त अकेले मुकेश अंबानी की वजह से है. तेल से लेकर टेलीकॉम कारोबार तक में लगे अंबानी को जबरदस्त सफलता मिली है. इसी तरह फार्मा कंपनियों के प्रमुखों की वजह से 21 फीसदी की अतिरिक्त संपदा बढ़ी है. इसकी वजह यह है कि कोविड-19 की वजह से हेल्थकेयर पर लोगों का खर्च बढ़ा है.’

सामूहिक रूप से देखें तो इस साल संपदा में पिछले साल के मुकाबले करीब 20 फीसदी की बढ़त हुई है. करीब 674 कारोबारियों की संपदा में बढ़त हुई है. इसके अलावा इस सूची में 162 नए लोग शामिल हुए हैं.

Note: यह सभी आंकड़े अलग-अलग वेबसाइट से लिए गए हैं.

Related Posts

Leave a Comment