OMG: संयुक्त किसान मोर्चा का बड़ा एलान, 18 फरवरी को करेंगे रेल रोको अभियान, ऐसी होगी तैयारी

अब किसान शुरू करेंगे रेल रोको अभियान

कृषि कानून के विरोध में किसानों का आंदोलन जारी है. किसान लगातार सरकार से कानून वापस लेने की मांग कर रहे हैं. तो वहीं दूसरी तरफ अब देश भर के किसानों को जोड़ने के लिए महापंचायत भी हो रही हैं. टिकैत ने हाल ही में सरकार को चेतावनी भरे अंदाज में कहा था कि, किसान भाई वापस नहीं जायेंगे। सरकार इस गलतफहमी में न रहे, वहीं अब सयुंक्त किसान मोर्चा ने एक और बड़ा एलान कर दिया है. किसान नेताओं ने कहा कि, अब 18 फरवरी को किसान रेल रोको अभियान की शुरूआत करेंगे।

बता दें कि, इससे पहले टिकैत ने भी कहा था कि उन्होंने सरकार को अक्टूबर तक का समय दिया हुआ है. तब तक इन कानूनों को वापस ले लिया जाए, नहीं तो उसके बाद सडकों पर सिर्फ किसानों के ट्रैक्टर दिखेंगे. वहीं संयुक्त किसान मोर्चा के नेता डॉक्टर दर्शन पाल ने बताया कि 12 फरवरी से राजस्थान के भी सभी रोड टोल प्लाजा (toll collection) को टोल मुक्त करवाया जाएगा. 14 फरवरी को पुलवामा हम’ले में शही’द जवानों के बलिदान को याद करते हुए देशभर में कैंडल मार्च, मशाल जुलूस और अन्य कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे.

अब किसान शुरू करेंगे रेल रोको अभियान

तो अब किसान नेताओं ने रेल रोको अभियान का भी एलान कर दिया है और उनका कहना है कि, किसान अब इसकी तैयारी में लग जायेंगे। ऐसे में देखना होगा कि, क्या सरकार आखिरकार किसी विमर्श पर पहुंचती है या फिर यह आंदोलन इस तरह से से ही जारी रहेगा।

आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक सरकार समाधान नहीं कर देती

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि आंदोलनकारी किसान केंद्र में कोई सत्ता परिवर्तन नहीं, बल्कि अपनी समस्याओं का समाधान चाहते हैं. उन्होंने कहा कि किसान नेता आंदोलन के प्रसार के लिए देश के विभिन्न हिस्सों का दौरा करेंगे. उन्होंने कहा कि देशभर में बड़ी बैठकों का आयोजन कर और 40 लाख ट्रैक्टरों को शामिल कर आंदोलन को और बड़ा किया जाएगा.

टिकैत ने सिंघू बॉर्डर पर किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक कि केंद्र कृषकों के मुद्दों का समाधान नहीं कर देता.

Related Posts

Leave a Comment