अखिलेश यादव ने साधा निशाना, कहा- BJP सरकार खुद को जन प्रतिनिधि नहीं धन प्रतिनिधि समझती है..

अखिलेश यादव ने साधा निशाना

कृषि बिल के विरोध में किसानों का आंदोलन लगातार जारी है. हाल ही में हुई बैठक में भी किसानों की कानून वापस लेने की मांग पर सहमति नहीं बनी. वहीं किसानों ने पहले ही आंदोलन तेज करने की चेतावनी दे रखी है और 26 जनवरी को राजपथ पर ट्रैक्टर मार्च करने का एलान किया है. तो वहीं विपक्ष भी लगातार मोदी सरकार को घेर’ने में लगा हुआ है. इस कड़ी में अब अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav takes on BJP government) ने एक बार फिर हमला बोला है.

दरअसल अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा- “भाजपा सरकार की सबसे बड़ी समस्या ये है कि वो अपने को जन-प्रतिनिधि नहीं ‘धन-प्रतिनिधि’ समझती है, इसीलिए धनवानों के लिए किसानों को दांव पर लगा रही है. भाजपा भूल रही है वो जिन्हें नुक़सान पहुंचा रही है, वे संकट से संघर्ष करने वाले देश के वो दो-तिहाई लोग हैं, जो कभी हार नहीं मानते.”

बता दें एक दिन पहले अखिलेश (Akhilesh Yadav takes on BJP government) ने आरोप लगाया था कि बीजेपी सरकार किसान आंदोलन को लंबा खींचना चाहती है. उन्होंने ट्वीट किया, “ भाजपा सरकार ने आज फिर निरर्थक वार्ता करके अगली तारीख़ दे दी. हर बार आधा दिन गुजार कर 2 बजे बैठक करने से ही लगता है कि भाजपा सरकार आधे मन से आधे समय काम करके, इस आंदोलन को लम्बा खींचना चाहती है, जिससे किसानों का हौसला टूटे पर किसान टूटनेवाले नहीं, सत्ता का दंभ तोड़नेवाले हैं.”

वहीं बात करें किसान आंदोलन की तो इसको करीब 40 दिन हो गए हैं. बारिश और ठंड के बीच किसान लगातार डटे हुए हैं और उनका कहना है कि, ठंड पड़े या बारिश या तूफान आ जाए, वह अपना हक लेकर ही वापस जाएंगे। जाहिर है बीते कुछ दिनों से दिल्ली में काफी बारिश हुई जिसकी वजह से किसानों को काफी परेशानी हुई अऊर उनके टेंट में पानी भर गया. लेकिन अभी भी उनके हौसले डिगे नहीं है और वह वहीं पर डटे हैं.

Related Posts

Leave a Comment